Tuesday, March 3, 2015

Holika Dahan vs Swine Flu

Holi 2015



















होलिका दहन 

हम पूरे भारत में होली का त्यौहार मानते है और कई जगह पर होलिका जलती है । होली क्यों मनाते है ये तो हम सभी लोग जानते है पर इससे क्या लाभ है ये सायद बहुत कम लोग जानते है । जब होलिका जलाई जाती है तो उसका धुवाँ वॉयमंडल  में जाता है और उस वॉयमंडल  में बहुत से वायरस होते हैं । उस धुवे से बहुत सारे वायरस मर जाते है । और इस बार तो स्वाइन फ्लू नाम का वायरस बहुत ज्यादा फ़ैल गया है तो मेरा सभी भाई से निवेदन है इस बार होलिका में कपूर और इलाइची अधिक से अधिक जलाएं ताकि स्वाइन फ्लू का वायरस हमेशा के लिए मर जाये । 

क्यों की अभी तक कपूर और इलाइची ही एक मात्र दवा है स्वाइन फ़्लुए से बचने का । 

पहले ज़माने में लोग यज्ञ करते थे और यज्ञ में बहुत सारा घी  और चन्दन , कपूर,इत्यादि जलाते थे तो वॉयमंडल  शुद्ध रहता था पर आज का वातावरण बहुत ही दुसित हो चूका है और यज्ञ बहुत कम होता है  आओ हम सब मिलकर एक बार फिर से वॉयमंडल  को शुद्ध  करें और अपनी सुरक्षा को सुनश्चित करें । 

होली एक मौका है अपने तन और वॉयमंडल  को शुद्ध  करने की।  होली की सभी मित्रो को हार्दिक सुबह कामनाएं ।